Diwali im Hindi Aufsatz

Posted on by Rude

Diwali Im Hindi Aufsatz




----

उपसंहार- दीवाली भारत का एक राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक पर्व है । इसके महत्त्व को बनाये रखना आवश्यक है । जुआ खेलने और शराब पीने वालों का विरोध करें । तभी हम ऐसे पर्वों के प्रति श्रद्धा और आस्तिकता का परिचय दे सकते हैं । पर्व देश और जाति की सबसे बड़ी सम्पत्ति हैं । इनके महत्त्व को समझना तथा इसके आदर्शों का पालन करना चाहिए । प्रत्येक भारतवासी का यह परम कर्त्तव्य है कि वे इम महान पर्व को सामाजिक कुरीतियों से बचाए ।

ध हमने आपके लिए एक औऔ धनिबनध धनिबनध धनिबनध धनिबन धनिबनध धनिबनधध आपको जो भी अच्छछ लगे आप पढ़ सकते हैं.

भूमिका- भारत भूमि अपनी प्राकृतिक सुषमा के लिए संपूर्ण विश्व में अनूठी है और इसकी संस्कृति भी इसे गौरवान्वित करती है । समय-समय पर मनाए जाने वाले त्योहार इसकी संस्कृति की विशेषता को दर्शाते हैं । प्रत्येक त्योहार का अपना महत्त्व है । इन त्योहारों के कारण भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है । जीवन में त्योहार आवश्यक औषधि का कार्य करता है । जिस प्रकार शरीर को निरोग रखने के लिए पौष्टिक आहार की आवश्यकता होती है उसी प्रकार मन को स्वस्थ रखने के लिए त्योहारों का होना भी आवश्यक है । मानव जीवन समस्याओं, उलझनों, दु:खों एवं समस्याओं से भरा है जिसमें मनुष्य पिसकर रह जाता है । जीवन को इससे उबारने के लिए त्योहार अत्यंत उपयोगी हैं । त्योहार मानव जीवन में शक्ति का संचार करते हैं । भारत में वर्ष भर में अनेक त्योहार मनाए जाते है । इनमें से कई त्योहारों का संबंध ऋतुओं से होता है तथा कई त्योहार ऐतिहासिक घटनाओं एवं धार्मिक विश्वासों से जुडे हुए होते है । भारत के सभी त्योहारों में से दीपावली सर्वाधिक आकर्षक एवं महत्वपूर्ण त्योहार है ।

नामकरण- दीपावली शब्द दीप + अवली से मिलकर बना है जिसका अर्थ है दीपों की अवली या पंक्ति या माला । इस त्योहार पर घर-घर पर दीप जलाए जाते हैं, इसलिए इसका नाम दीपावली पड़ा ।

मनाने का कारण- यह त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है । इस त्योहार को मनाने के कई धार्मिक, पौराणिक एवं सांस्कृतिक कारण हैं । इस दिन श्री रामचन्द्र जी चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा रावण को मारकर अयोध्या लौटे थे । अयोध्यावासियों ने उनके आने की खुशी मैं घी के दिए जलाकर उनका स्वागत किया था । तभी सें यह त्योहार प्रतिवर्ष दीप जलाकर मनाया जाता है । इस त्योहार को मनाने के और भी अनेक संदर्भ हैं । एक कथा के अनुसार इस दिन महाराज युधिष्ठिर ने राजसूय यज्ञ पूरा किया था । जैन धर्म के अनुयायियों के अनुसार इसी दिन जैन मत के प्रवर्त्तक महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था । इसी दिन आर्य समाज के संस्थापक स्वामी सरस्वती दयानंद को भी मोक्ष प्राप्त हुआ था । सिक्ख धर्म के छठे गुरु हरगोबिंद सिंह जी भी इसी दिन कारागार से मुक्त हुए थे । कृष्ण भक्तों के अनुसार इस दिन से एक दिन पूर्व श्रीकृष्ण ने नरकासुर का व ध किया था तथा इसी दिन श्रीकृष्ण ने ब्रज प्रदेश को इंद्र के कोप से बचाया था । इसी दिन स्वामी रामतीर्थ देह को त्यागकर मुका हो गए थे । इसलिए यह दिन सभी भारतीयों के लिए पुण्य कारक दिन है ।

पर्व का आयोजन- दीपावली का त्योहार अपने साथ कई त्योहार लाता है । दीपावली से दो दिन पहले त्रयोदशी के दिन धनतेरस मनाया जाता है । इस दिन लोग नए बर्तन खरीदते हैं । चर्तुदशी को ‘नरक चौदस’ तथा अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है । दीपावली से अगले दिन गोवर्धन पूजा होती है । इन दिन कृष्णजी ने गोवर्धन पर्वत उठाकर गोकुलवासियों को इंद्र के प्रकोप से बचाया था । द्वितीय को भैया दूज मनाई जाती है ।

तैयारियां- दीपावली की तैयारियां दशहरे के बाद से ही प्रारंभ हो जाती है । यह त्योहार वर्षा ऋतु के बाद उगता है । लोग अपने घरों की सफाई, रंग-रोगन शुरू कर देते हैं । व्यापारी वर्ग भी अपनी दुकानों तथा दफ्तरों की सफाई करवाते हैं । बाजारों में खूब चहल-पहल होती है । मिठाई, पटाखे, दीपक, मोमबत्तियां, कपड़े आदि सभी चीजों से बाजार सजे होते हैं । इसी दिन दोपहर को लोग हनुमान जी की पूजा करते हैं क्योंकि वे ही श्री राम जी, लक्ष्मण तथा सीता जी के अयोध्या लौटने का संदेश लेकर आए थे । घरों में भिन्न-भिन्न प्रकार के व्यंजन बनाए जाते  है । रात्रि में घरों पर दीपक से प्रकाश किया जाता है- । दीपावली से कुछ दिन पूर्व ही लोग अपने घरों पर रोशनी से प्रकाश करते है । लोग खील- पताशे, मिठाईयां तथा आतिशबाजियां खरीदते हैं ।

आजकल दीपक का स्थान बिजली के बच्चों तथा मोमबत्तियों ने ले लिया है । बच्चे आतिशबाजी चलाकर बहुत प्रसन्न होते हैं । घर में लक्ष्मी-गणेश तथा सरस्वती जी क- पूजा की जाती है । मित्रों तथा संबंधियों को तोहफे तथा मिठाइयां बांटी जाती हैं ।

दीपावली की रात को कुछ लोग जुआ खेलते हैं तथा शराब पीते हैं । इस प्रकार वे दीपावली की पवित्रता को भंग करते हैं । उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए । जुए के कारण लाखों लोग बर्बाद हो जाते है । इसके अतिरिक्त लोग आतिशबाजियों पर भी हजारों रुपए नष्ट करते हैं । हमें इस प्रकार की बुराइयों एवं फिजूलखर्ची से बचना चाहिए । इस दिन हमें यह निश्चय करना चाहिए कि केवल बाहर का प्रकाश ही नहीं हमें अपने हृदयों में भी सद्‌गुणों का प्रकाश करना चाहिए तथा यह प्रयास करना चाहिए कि इस संसार में जहां कहीं भी गरीबी, भुखमरी, अशिक्षा एवं बुराईयों का अं धेरा है, दूर हो । हमें कवि की ये पंक्तियां सदा याद रखनी चाहिए-

जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना

अंधेरा धरा पर कहीं रह न जाए ।

दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजन से व्यापारियों के नव वर्ष का आरंभ होता है । वे इस दिन अपना नया बही खाता आरंभ करते हैं । दीपावली की रात बहुत ही सुहावनी लगती है । दीपावली की रात में जलते हुए दीपों की कतारें अंधकार को भगा देती हैं । दीपक अपने जगमगाते प्रकाश से सबको चकाचौंध कर देते है । पंजाब में अमृतसर एवं भारत मैं मुंबई की दीपावली प्रसिद्ध है । अमृतसर में स्वर्ण मंदिर की शोभा देखते ही बनती है ।

ऋतु परिवर्तन से संबंध- इस त्योहार का संबंध ऋतु परिवर्तन से भी है । इस समय से शरद् ऋतु का आरंभ हो जाता है । लोगों के खान-पान एवं पहनावे में भी परिवर्तन आ जाता है । यह त्योहार हमें सद्‌भावना, संपन्नता एवं मेल-मिलाप का संदेश देता है । इसे पवित्रता एवं उचित ढंग से मनाना चाहिए ताकि दुर्घटना न हो एवं चारों ओर खुशियों एवं उल्लास का वातावरण बना रहे । दीपावली की उमंग, पटाखे-मिठाईयों के रंग दीपक जगमगाएं ऐसे, तारे उतर आएँ हों धरती पर जैसे ।


नीचे बिना नुक्ते के भी दिवाली के विषय पर एक निबंध दिया गया है:

दीपावली (निबंध 3)

दिवाली (दीपावली या दीपावली या दीपावली) भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। दिवाली का अर्थ है प्रकाश लैंप की पंक्तियां। यह रोशनी का त्योहार है और हर भारतीय इसे खुशी से मनाता है इस त्यौहार के दौरान, लोग अपने घरों और दुकानों को हल्का करते हैं। वे भगवान गणेश की भलाई और समृद्धि और धन और ज्ञान के लिए देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं।

दीपावली भारत, नेपाल, श्रीलंका, सिंगापुर, मलेशिया, मॉरीशस, फिजी, सूरीनाम, गुयाना, त्रिनिडाड और टोबैगो में स्कूल की छुट्टियां है और हिंदुओं की महत्वपूर्ण आबादी वाले कई राज्यों में स्कूल की छुट्टी है।

यह त्यौहार कार्तिक के हिंदू माह में मनाया जाता है जो अक्टूबर या नवंबर के दौरान कुछ समय के लिए होता है। 14 वर्ष के निर्वासन से भगवान राम की वापसी और राक्षस राक्षस पर उनकी जीत के लिए यह मनाया जाता है। भारत के कई हिस्सों में, दीवाली को लगातार पांच दिनों तक मनाया जाता है और यह भारत में सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है। हिन्दू इसे जीवन का उत्सव मानते हैं और इस अवसर का उपयोग परिवार और संबंधों को मजबूत करने के लिए करते हैं। भारत के कुछ हिस्सों में, यह नए साल की शुरुआत का प्रतीक है। यह न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी मनाया जाता है। दीवाली के दौरान हिंदू भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं.

पटाखे जो सल्फर और कागज का उपयोग करते हैं, वे सल्फर डाइऑक्साइड और कोयला को हवा में डाल देते हैं, इसलिए अब फटाके चुप क्षेत्र में प्रतिबंधित हैं यानी अस्पताल, विद्यालय और अदालतों के पास।

हिंदुओं ने अपने घरों और दुकानों को उजागर किया, धन और भाग्य की देवी, देवी लक्ष्मी का स्वागत करने के लिए, उन्हें आगे साल के लिए शुभकामनाएं देने के लिए। कुछ दिनों पहले दिवाली, घरों, भवनों, दुकानों और मंदिरों से पहले दिन, रथटेग पूरी तरह से साफ किया जाता है, सफेद धुलाई और चित्रों, खिलौने और फूलों से सजाया जाता है। दीवाली दिन, लोग इस दिन अमीर कपड़े पहनते हैं, बधाई, उपहार और मिठाई का आदान प्रदान करते हैं।

रतत में, इमइमतोंतों को मिट्टी के दीपक, मोमबत्ती की छड़ियछड़ियं औऔ बिजली के ब ब ब ब प प ज ज ज ज ज ज ज जज.





लिएमिठई औऔ खिलौनखिलौन की दुकदुकनों लिए लिए लिए लिए लिए लिए लिए लिए लिए लिए षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित षित. लोग अपने पपिविवोंों के लिए मिठमिठई खखीदते हैंहैंऔ उनउनहें उनउनहें अपनेिश कोिश ोंकोिश ोंकोिशोंों रतत में, धन की देवी देवी लक्ष्मी की मिट्टी के चित्र औऔ चचंदी के ुपएुपए के ूप ूप पूज की की की ती ती ती.





लोग ममनते हैं कि इस दिन, हिंदू देवी ष्ष्मी केवल उन घघों में प्वेशवेश ककते हैं जो स्वच्छ औऔ सुव्यवस्थित हैं. लोग अपने स्ववस्थ्य, धन औऔ समृद्धि के लिए प्रार्थनथन की पेशकश ककते हैं.





वे अपने विश्ववस में इमइमतोंतों में प्कककश छोड़ देते हैं कि देवी लक ष ष उसके उसके उसके उसके उसके उसके उसके उसके उसके.

Kurzer Essay über Diwali in Hindi

‘दिवाली’ हिंदुओं का सबसे बड़ा त्योहार है। दिवाली को दीपावली भी कहा जाता है। हिंदी में ‘दीपावली’ में दीये की एक पंक्ति है।

दिवाली रोशनी का त्योहार है यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार ‘कार्तिक’ के महीने में गिरता है। दिवाली में लगभग हर घर और सड़क दीपक से सजाया जाता है, और रोशनी।

यह तब मनाया जाता है जब 14 वर्ष के निर्वासन के बाद भगवान राम, सीता और लक्ष्मण अयोध्या लौटे। अयोध्या के लोगों ने उन्हें प्रकाश तेल के लैंप के साथ स्वागत किया। यही कारण है कि इसे ‘लाइट्स का महोत्सव’ कहा जाता है

दीवाली के दिन हर कोई खुश होता है और एक-दूसरे को बधाई देता है। बच्चे खिलौने और पटाखे खरीदते हैं। दुकानों और घरों को साफ और चित्रित किया गया है रात में लोग लक्ष्मी की पूजा करते हैं-धन की भलाई


एकदिवली के निबंध एकक एक YouTube-Video भी नीचे दियदिय गयगय है:

ज़रूर पढ़िए:


हमें पूरी आशा है कि आपको हमारा यह Artikel बहुत ही अच्छा लगा होगा.

यदि आपको इसमें कोई ख मी मी मी आप आप आप आप कोई कोईनीचेव देनदेन चचहें तो आप नीचे kommentieren ज़ज़ूू कीजिये. इसके इलावा आप अपना कोई भी विचार हमसे Kommentar के ज़रिये साँझा करना मत भूलिए. इस Blog-Post को अधिक से अधिक Aktie कीजिये और यदि आप ऐसे ही और रोमांचिक Artikel, Tutorials, Anleitungen, Zitate, Gedanken, Slogans, Geschichten इत्यादि कुछ भी हिन्दी में पढना चाहते हैं तो हमें abonnieren ज़रूर कीजिये.

Abgelegt unter: Essay | निबंध Markiert mit: 10 Zeilen auf Diwali, 10 Zeilen auf Diwali in Hindi, 5 Zeilen auf Diwali, 5 Zeilen auf Diwali für Kinder, ein Absatz auf Diwali, ein kurzer Absatz auf Diwali in Hindi, ein Essay über Diwali, Artikel über Diwali in EnglischKomposition auf Diwali, Deepavali Essay auf Hindi, Deepavali Festival Essay, Deepavali auf Hindi, Deepawali auf Hindi, Diwali Feier Essay, Diwali Komposition, Diwali Essay, Diwali Essay für Kinder, Diwali Essay für Kinder auf Hindi, Diwali Essay auf Englisch, Diwali Essay auf Englisch für Kinder, Diwali Essay auf Hindi, Diwali Essay auf Hindi für Kinder, Diwali Essay auf Hindi für Kinder, Diwali Essay auf Hindi, Diwali Essay auf Marathi Sprache, Diwali Festival Essay, Diwali Festival Essay auf Kinder, Diwali Festival Essay auf Englisch, Diwali Festival Essay auf Hindi, Diwali Festival auf Hindi, Diwali Festival auf Hindi Sprache Essay, Diwali Festival Informationen auf Hindi, Diwali Hindi, Diwali Hindi Essay, Diwali Geschichte auf Hindi, Diwali auf Hindi, Diwali auf Hindi e ssai, diwali in hindi absatz, diwali in hindi, diwali nibandh, diwali nibandh in hindi, diwali par nibandh, diwali absatz, diwali absatz auf englisch, diwali absatz auf hindi, diwali rede für kinder, diwali rede in englisch, diwali rede in Hindi, Diwali-Geschichte auf Hindi, Dussehra-Aufsatz, Dussehra-Aufsatz auf Englisch, Dussehra-Aufsatz auf Hindi, Essay Diwali, Essay Diwali auf Hindi, Essay auf Hindi auf Diwali, Essay von Diwali, Essay von Diwali auf Hindi, Essay auf Deepavali auf Hindi, Essay über Deepawali, Essay über Deepawali im Hindi, Essay über Diwali, Essay über Diwali Festival, Essay über Diwali Festival für Kinder, Essay über Diwali Festival in Hindi Sprache, Essay über Diwali für Kinder, Essay über Diwali in Englisch, Essay über Diwali auf Hindi, Essay über Diwali auf Hindi für Kinder, Essay über Diwali auf Hindi, einige Zeilen über Diwali, einige Zeilen über Diwali Festival, einige Zeilen über Diwali Festival für Kinder, einige Zeilen über Diwali für Kinder, hindi Aufsatz über diwali, hi ndi essay auf diwali festival, hindi essay auf diwali auf hindi, hindi auf diwali, hindi nibandh diwali, hindi nibandh auf diwali, informationen zu diwali auf hindi, linien auf diwali, linien auf diwali für kinder, linien auf diwali auf hindi, nibandh auf diwali in hindi, paragraph auf diwali, paragraph auf diwali auf englisch, paragraph auf diwali auf hindi, verschmutzungsfreie diwali essays, kurzer essay auf diwali, kurzer essay auf diwali für kinder, kurzer essay auf diwali auf hindi, kurzer essay auf diwali in hindi-sprache, kurzer hinweis auf diwali, kurzer hinweis auf diwali in hindi, kurzer absatz auf diwali, kurzer absatz auf diwali auf hindi, einige linien auf diwali, rede auf diwali, rede auf diwali für kinder, rede auf diwali in englisch, rede auf Diwali in Hindi, Rede auf Diwali in Hindi Sprache





Aufmerksamkeit auf




Top

Leave a Reply